नालंदा जिले के अस्थावां में जन्में यशवंत सिन्हा 1960 तक पटना विश्वविद्यालय में प्रोफेसर रहे। 

यशवंत सिन्हा ने 4 साल तक बतौर उप प्रभागीय न्यायाधीश और न्यायाधीश भी काम किया। उन्होंने दो साल तक बिहार सरकार के वित्त मंत्रालय में बतौर सचिव और उप सचिव काम किया।

1971 से 1974 तक वे बोन, जर्मनी, के भारतीय दूतावास में पहले सचिव नियुक्त किये गए। 

1973-1974 के दौरान उन्होंने फ्रेंकफ़र्ट में भारतीय महावाणिज्यदूत के पद पर कार्य किया।

1980-84 के दौरान भारत सरकार के भूतल परिवहन मंत्रालय में संयुक्त सचिव का पद संभाला।

1984 में यशवंत सिन्हा ने भारतीय प्रशासनिक सेवा से इस्तीफा देकर जनता पार्टी के साथ राजनीतिक पारी की शुरुआत की। 

1990-1991 के दौरान वे चंद्रशेखर सरकार में वित्त मंत्री बनाये गए। 1996 में उन्हें भारतीय जनता पार्टी का प्रवक्ता बनाया गया।

यशवंत सिन्हा अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में वित्त मंत्री रहे और बाद में 2004 के अंत तक विदेश मंत्री रहे।

वित्त मंत्री रहते हुए यशवंत सिन्हा ने अंग्रेजों की शाम 5 बजे भारतीय बजट पेश करने 57 वर्ष पुरानी परंपरा को तोड़ दिया था। 

उन्होंने कॉन्फेशन ऑफ़ अ स्वदेशी नामक पुस्तक लिखी। उन्हें सन 2015 में फ्रांस का सर्वोच्च नागरिक सम्मान ‘लीजन ऑफ ऑनर’ प्रदान किया गया।