उत्तर प्रदेश ताजा समाचार देश

दलित मां और ब्राह्मण पिता वाले दूल्हे की ऐसे खुली पोल, दरवाजे से लौटी बरात

सोनभद्र: उत्तर प्रदेश के सोनभद्र जिले में एक शादी होने से पहले ही टूट गई और धूमधाम से पहुंची बरात (Baraat Return) बैरंग ही वापस लौटनी पड़ी। शादी न होने के पीछे की वजह बनी, संदिग्ध जाति और नकली पिता। वधु पक्ष ने शादी से पहले ये सच्चाई छिपाने के कारण वर पक्ष से रिश्ता तोड़ लिया और बरात को वापस लौटा दिया।

मामला सोनभद्र जिले के चोपन थाना क्षेत्र के बिल्ली मारकुंडी ग्राम पंचायत के बाड़ी गांव का है, जहां रानीताली से बरात आई थी। सारी तैयारियां हो चुकी थी। बरात लड़की वालों के दरवाजे पहुंची।द्वारचार की रश्म भी हुई। पूजा के बाद जयमाल कार्यक्रम की तैयारियां हो ही रहीं थीं कि तभी लड़की वालों को एक ऐसी सच्चाई पता चली जिससे शादी का जश्न विवाद में बदल गया।

लड़की के पिता और भाई को दूल्हे के परिवार की जातीयता पर कुछ शक हुआ। उन्होंने दूल्हे के पिता का आधार कार्ड माँगा, इसपर लड़के के पिता ने जब आधार कार्ड नहीं दिखाया तो लड़की वालों ने शादी से इंकार कर दिया। उनका शक पुख्ता होने लगा कि वर पक्ष ने अपनी जाति छिपाई है।

शादी रुकने पर वर पक्ष भड़क गया और 112 डायल कर पुलिस को बुला लिया। शादी में विवाद की जानकारी जब डाला पुलिस चौकी प्रभारी एसके सोनकर को हुई तो वह भी मौके पर पहुंच गए। संदिग्ध जाति के शक का मामला एक नए मोड़ पर तब आ गया जब पुलिस को जांच में ये पता चला कि दूल्हे का पिता असल में उसका पिता है ही नहीं। न तो वो दूल्हे का असली पिता था और न ही वधु पक्ष की बिरादरी का।

शादी के लिए जाति छिपाने के साथ ही नकली ससुर लाने के मामले का पता जब वधु पक्ष को लगा तो उन्होने अपनी बेटी के शादी करने से मना कर दिया और बारात वापस लौटा दी। इस मामले में चौकी प्रभारी एसके सोनकर ने जांच के बाद जानकारी दी कि वर की मां दलित है, जबकि पिता ब्राह्मण थे। इसी वजह से दलित बिरादरी के वधू पक्ष ने शादी से मना कर दिया। हालाँकि इस मामले में किसी भी पक्ष की ओर से कोई केस दर्ज नहीं कराया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *