उत्तर प्रदेश ताजा समाचार देश

BJP नेता ने हिस्ट्रीशीटर को बचाया, पार्टी ने पद से हटाया, पुलिस कर रही तलाश

कानपुर: कानपुर में हिस्ट्री शीटर मनोज सिंह को पुलिस से बचाना भाजपा नेता नारायण भदौरिया को भारी पड़ गया है। मामला सुर्खियों में आने और पुलिस से हाथापाई का वीडियो वायरल होने के बाद भारतीय जनता पार्टी ने नारायण भदौरिया को जिला अध्यक्ष के पद से हटा दिया। वहीं पुलिस भी नारायण भदौरिया और उनके समर्थकों को गिरफ्तार करने के लिए तलाश में है। कानपुर पुलिस ने बीते दिन हुए बवाल के बाद 9 नामजद, 10 अज्ञात लोगों पर केस दर्ज किया है।

दरअसल, कानपुर नगर के नौबस्ता थानाक्षेत्र में चोरी और हत्या के प्रयास में फरार चल रहे एक हिस्ट्रीशीटर मनोज सिंह को गिरफ्तार करने के लिए पुलिस बीजेपी के जिला मंत्री नारायण भदौरिया के जन्मदिन के समारोह में पहुंची थी। हिस्ट्रीशीटर भाजपा नेता के जन्मदिन समारोह में शामिल हुआ था। पुलिस उसकी गिरफ्तारी के लिए मौके पर पहुँच गयी। कानपुर पुलिस भाजपा नेता के जन्मदिन की पार्टी जहां हो रही थीं, वहां सादी वर्दी में पहुंची। हिस्ट्रीशीटर के वहां होने की पुष्टि के बाद फोर्स को मौके पर बुला लिया।

हालंकि जैसे ही पुलिस ने हिस्ट्रीशीटर और उसके दो साथियों को पकड़ा तो भाजपाइयों ने उन्हें रोकना शुरू कर दिया। पुलिस हिस्ट्रीशीटर को गिरफ्तार कर जीप में बैठाने लगी तो भाजपा समर्थकों ने हंगामा करते हुए गिरफ्तारी का विरोध किया। इस दौरान पुलिस और भाजपाइयों के बीच धक्का-मुक्की हो गयी। भाजपा समर्थक पुलिस को रोकने के लिए जीप के आगे लेट गए। उनके इस तरह से विरोध करने पर हमीरपुर रोड पर जाम लग गयाजानकारी के मुताबिक, लगभग एक घंटे तक हंगामा हुआ, जिसके बाद भाजपा समर्थकों ने हिस्ट्रीशीटर को पुलिस की जीप से उतरवा BJP नेता ने आरोपी बचाया लिया। हिस्ट्रीशीटर मनोज सिंह पुलिस की गिरफ्त से छूट मौके से फरार हो गया। इसका वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है।

हिस्ट्रीशीटर को छुड़ाने का मामला बढ़ने के बाद पुलिस बीजेपी नेता नारायण भदौरिया को आरोपी मानते हुए हिस्ट्रीशीटर के साथ ही बीजेपी नेता नारायण भदौरिया की गिरफ्तारी के लिए दबिश दे रही है। वहीं भाजपा आलाकमान ने नारायण भदौरिया पर कार्रवाई करते हुए उन्हें सभी पदों से हटा दिया है। बता दें कि भाजपा नेता नारायण भदौरिया का हिस्ट्रीशीटर से कनेक्शन है। उनका भी आपराधिक इतिहास है। नारायण पर धारा 307, 308 जैसी गंभीर मामलों में मुकदमे दर्ज हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *