फैक्ट चेक: मुर्गियों से फैलता है ब्‍लैक फंगस, जाने अफवाह है या सच्‍चाई

नई दिल्ली:

देश में कोविड-19 के मामलों के बीच पिछले दिनों म्यूकोरमाइकोसिस (जिसे ब्लैक फंगस के नाम से भी जाना जाता है) के मामलों भी तेजी से देखने को मिल रहे है। देखते ही देखते इस फंगस संक्रमण ने भी कई राज्यों में महामारी का रूप ले लिया है। सरकार और स्वास्थ्य संगठन इस प्रकोप को रोकने की दिशा में सक्रिय रूप से काम कर रहे हैं। कमजोर इम्यूनिटी को स्वास्थ्य विशेषज्ञ इसका प्रमुख कारण मान रहे हैं। इस बीच सोशल मीडिया पर ब्लैक फंगस के कारणों से जुडे कुछ पोस्ट वायरल हो रहे हैं जिनमें कहा जा रहा है कि पोल्ट्री फार्म के चलते इस तरह के संक्रमण के मामले बढ़ रहे हैं। इतना ही नहीं लोगों से कुछ दिनों तक चिकन न खाने की अपील भी की जा रही है। आइए जानते है सोशल मीडिया में फैल रही इस अफवाह में क‍ितना दम है?

सोशल मीडिया के कई प्लेटफार्मों पर तेजी से वायरल हो रहे एक पोस्ट में कहा जा रहा है कि मुर्गियां भी ब्लैक फंगस संक्रमण की एक वजह हो सकती हैं। दावा किया जा रहा है कि ब्लैक फंगस, बर्ड फ्लू की तरह ही मुर्गीयों से फैलने वाला संक्रमण है। लोगों से अपील का जा रही है कि वह पोल्ट्री फार्म के आसपास न जाएं और न ही चिकन खाएं, इससे संक्रमण का खतरा हो सकता है। इतना ही नहीं पोस्ट में बताया जा रहा है कि कुछ राज्य की सरकारों ने ऐसे ही कुछ पोल्ट्री फार्म को चिन्हित करके उनके खिलाफ कार्रवाई की है। भारत सरकार के प्रेस सूचना ब्यूरो (पीआईबी) ने ट्वीट के माध्यम से इस वायरल खबर का खंडन करते हुए लोगों को जागरूक किया है। ट्वीट में बताया गया है कि इस तरह का दावा पूरी तरह से झूठा है, अब तक ऐसे कोई भी तथ्य सामने नहीं आए हैं जिनके आधार पर कहा जा सके कि मुर्गीयों के कारण इंसानों को ब्लैक फंगस संक्रमण होने का डर हो सकता है।