भारत के उपराष्ट्रपति एम.वेंकैया नायडू के निजी ट्विटर हैंडल से ट्विटर ने ब्लू टिक हटाया

नई दिल्ली: माइक्रो ब्लॉगिंग साइट ट्विटर ने भारत के उपराष्ट्रपति एम.वेंकैया नायडू के अधिकारिक निजी ट्विटर हैंडल से ब्लू टिक हटाया है। ये जानकारी शनिवार (05 जून) को उपराष्ट्रपति कार्यालय की ओर से दी गई है। ट्विटर का ब्लू टिक मतलब होता है, अकाउंट का वैरिफाइड होना। ट्विटर ने एम.वेंकैया नायडू के हैंडल से ब्लू टिक हटाकर उनका अकाउंट अनवेरिफाइड कर दिया है। ट्विटर ने कदम क्यों उठाया है, उसको लेकर फिलहाल कोई जानकारी नहीं आई है। ना ही एम.वेंकैया नायडू ने इसपर अपनी प्रतिक्रिया दी है।

ट्विटर ने शनिवार को उपराष्ट्रपति एम.वेंकैया नायडू के निजी ट्विटर हैंडल से ब्लू टिक हटाया है। हालांकि, भारत के उपराष्ट्रपति @VPSecretariat के आधिकारिक हैंडल पर अभी भी ब्लू टिक है। जिसके 9.3 लाख फॉलोअर्स हैं। वेंकैया नायडू के निजी ट्विटर हैंडल पर 13 लाख से ज्यादा फॉलोअर्स हैं, जिसका ब्लू टिक हटाया गया है।

ट्विटर पर ब्लू टिक (बैज) लोगों को यह बताता है कि हैंडल प्रामाणिक है। ब्लू टिक मिले ट्विटर हैंडल को अपना अकाउंट हमेशा एक्टिव रखना होता है। ट्विटर ज्यादातक ब्लू टिक सरकारी कंपनियां, ब्रांड और गैर-लाभकारी संगठन, समाचार संगठन और पत्रकार, मनोरंजन, खेल और गेमिंग, कार्यकर्ता, आयोजक और अन्य प्रभावशाली व्यक्तियों को ही देता है।
ट्विटर किसी भी समय और बिना किसी सूचना के किसी ट्विटर अकाउंट के ब्लू टिक को हटा सकता है। लोग ब्लू टिक या बैज खो सकते हैं अगर वह अपना अकाउंट नाम (@handle) बदलते हैं।

ट्विटर की शर्तों के मुताबिक अगर कोई यूजर अपना ट्विटर हैंडल का नाम बदलता है या किसी का अकाउंट डेड हो जाता है, तो ट्विटर वैसी स्थिति में भी ब्लू टिक हटा लेती है। इसके अलावा अगर यूजर शुरुआत में जिस नाम से अपना अकाउंट बनाया था, उस दौरान ट्विटर ने उसे वैरिफाइड किया था लेकिन काफी वक्त तक हैंडल पर कोई एक्टिविटी ना होने की स्थिति में भी कंपनी उसे अनवेरिफाइड कर देती है।

Add a Comment

Your email address will not be published.