बच्ची की पीठ पर थी तीसरी टांग, रीढ़ में से कूल्हा भी उभर रहा था, डॉक्टरों ने 3 घंटे में अलग कर दिया

फरीदकोट: एक नवजात बच्ची का फरीदकोट मेडिकल काॅलेज में सफल ऑपरेशन हुआ। 7 दिन की उस बच्ची की पीठ पर एक तीसरी टांग जुड़ी थी। डॉक्टरों ने उसके शरीर की बाह्य और आंतरिक जांच की तो पता चला कि एक आधा शरीर और विकसित होकर उसकी पीठ पर एक टांग, कूल्हा और गुप्तांग के रूप में उभरा हुआ था। डॉक्टरों ने कहा कि, आधा अविकसित शरीर विकसित बच्ची की रीढ़ की हड्डी के साथ जुड़ा हुआ था। जिसे यूं ही अलग नहीं किया जा सकता था।

हालांकि, परिजनों की सहमति के बाद डॉक्टरों ने ऑपरेशन शुरू किया। करीब 3 घंटे की प्रक्रिया के बाद ऑपरेशन सफल रहा। उसके बाद डॉक्टरों ने कहा कि, अब बच्ची बिल्कुल स्वस्थ है। उन्होंने बताया कि, उसकी तीसरी टांग समेत अनावश्यक अविकसित बॉडी पार्ट हटा दिए गए हैं। सर्जरी विशेषज्ञ डॉ. आशीष छाबड़ा ने बताया कि, फिरोजपुर के परिवार के इस बच्चे का जन्म फरीदकोट के गुरु गोबिंद सिंह मेडिकल कॉलेज व अस्पताल में ही हुआ था।

डॉ. आशीष छाबड़ा ने कहा कि, पैदा होने के बाद बच्ची को जब हमारे पास लाया गया, तब यह सिर्फ 2 दिन की थी। इस बारे में गायनी वार्ड से सूचना दी गई थी कि बच्ची की पीठ पर एक अतिरिक्त अंग उभरा है। आधा शरीर एक ही स्पाइनल कॉर्ड से जुड़ा था। हमने परिजनों की परमिशन लेकर 7 दिन की उम्र में बच्ची की दिक्कत दूर कर दी। आशीष छाबड़ा के मुताबिक, बच्ची की पीठ पर जो तीसरी टांग थी…उससे उसे आगे चलकर बहुत दिक्कत होती। उसकी वजह से बच्ची का दाया पांव काम नहीं कर रहा था और बायां पांव भी थोड़ा कम काम कर रहा था। ऐसे में ऑपरेशन बहुत जरूरी था और यह मुश्किल भी था क्योंकि बच्ची को बेहोश किया जाना था और कई बार बेहोश होने के बाद इतने छोटी बच्ची का होश में आना मुश्किल हो जाता है। मगर, ऑपरेशन सफल रहा।

Add a Comment

Your email address will not be published.