महाराष्ट्र सरकार ने अपने ही मंत्री के ऐलान का कर दिया खंडन, 18 जिलों में अनलॉक पर लिया यू-टर्न

मुंबई: देशभर में कोरोना महामारी की दूसरी लहर में हजारो लोगों ने अपना जान गंवा दी। संक्रमण को रोकने के लिए देशभर में कई राज्यों में लॉकडाउन लगाया गया। लेकिन अब जिस तरह से संक्रमण के मामलों में कमी आ रही है उसे देखते हुए राज्य लॉकडाउन और अन्य पाबंदियों को हटा रहे हैं। लेकिन इस बीच महाराष्ट्र में मुख्यमंत्री और प्रदेश सरकार में मंत्री के बीच ही लॉकडाउन को लेकर भ्रम की स्थिति है। दरअसल प्रदेश में आपदा प्रबंधन मंत्री विजय वडेत्तिवार ने ऐलान किया कि 18 जिलों को अनलॉक किया जाता है। लेकिन मंत्री जी के ऐलान का मुख्यमंत्री कार्यालय ने ही खंडन कर दिया। मुख्यमंत्री कार्यालय की ओर से कहा गया कि अभी अनलॉक नहीं किया गया है, प्रस्ताव पर विचार किया जा रहा है।

मुख्यमंत्री कार्यालय की ओर से जो बयान जारी किया गया उसमे कहा गया कि अभी ग्रामीण इलाकों में संक्रमण कम नहीं हुआ है, कड़ी को तोड़ने की मुहिम के तहत हम धीरे-धीरे प्रतिबंध को कम कर रहे हैं लेकिन अभी कहीं पर भी अनलॉक नहीं किया गया है। पांच स्तर पर लॉकडाउन को हटाने के प्रस्ताव पर विचार किया जा रहा है। आंकड़ों का जायजा लेने के बाद इस बाबत राज्य सरकार की ओर से सूचना जारी की जाएगी। लेकिन सीएमओ की ओर से जारी इस बयान से पहले मंत्री विजय वडेत्तिवार ने शुक्रवार से 18 जिलों में कोरोना से ढील जाने की घोषणा की थी। मंत्री जी ने यह घोषणा प्रदेश के आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के साथ बैठक के बाद की थी।

मंत्री ने अपनी घोषणा में कहा था कि कोरोना महामारी की दूसरी लहर के बीच अप्रैल माह में प्रदेश में लॉकडाउन लगाया गया था। लेकिन अब 18 राज्यों में पाबंदियों में ढील दी जाएगी। जिन शहरों में संक्रमण की दर 5 फीसदी य उससे कम हैं और अस्पताल में 75 फीसदी ऑक्सीजन की सुविधा वाले बेड खाली हैं, वहां पाबंदियों में ढील दी जाएगी। मंत्री जी की ओर से नांदेड़, यवतमाल, वर्धा, परभणी, ठाणे, गोंदिया, जलगांव, जालना, लातूर, नागपुर, गढ़चिरौली, धुले, चंद्रपुर, भंडारा, बुलढाणा, औरंगाबाद में ढील देने का ऐलान किया गया था।

Add a Comment

Your email address will not be published.