हरियाणा में ब्लैक फंगस के मरीज 1 हजार के पार, 24 घंटे में 74 नए मिले, 1025 में से सिर्फ 138 ठीक हो पाए

हरियाणा में ब्लैक फंगस के मरीज 1 हजार के पार, 24 घंटे में 74 नए मिले, 1025 में से सिर्फ 138 ठीक हो पाए

चंडीगढ़: हरियाणा में ब्लैक फंगस के मरीजों की संख्या तेजी से बढ़कर 1 हजार के आंकड़े को पार कर गई है। बीते 24 घंटे में यहां ब्लैक फंगस के 74 नए मामले दर्ज किए गए। वहीं, ब्लैक फंगस से पीड़ित 6 जनों की मौत हो गई। राज्य में इस रोग का पहला मामला 7 मई को सामने आया था। उसके बाद 27 दिन में ही हजार से ज्यादा मामले सामने आ गए। जिनमें से 500 मरीज तो 11 दिनों में मिल चुके हैं। स्वास्थ्य विभाग से मिली जानकारी के मुताबिक, इस रोग के नए मरीज एक दिन में तीन गुना बढ़े हैं। अब तक 1025 लोग ब्लैक फंगस से पीड़ित हो चुके हैं। जिनमें से महज 138 का ही इलाज पूरा हो पाया। अभी 784 पीड़ित भर्ती हैं। ब्लैक फंगस वाले रोगियों के लिए इंजेक्शन की कमी भी बरकरार है। इन रोगियों को एम्फोटेरिसिन-बी इंजेक्शन लगता है। एक रिपोर्ट में बताया गया कि, 784 मरीजों के लिए 954 इंजेक्शन ही मिले। राज्य सरकार ने केंद्र से 12 हजार से ज्यादा शीशियां मांगी।

उधर, हरियाणा के गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज का कहना है कि एम्फोटेरिसिन-बी के इंजेक्शन अभी कम हैं। उन्होंने कहा कि, केंद्र से और इंजेक्शन की मांग की गई है। हालांकि, ब्लैक फंगस की दवा की किल्लत कई राज्यों में हैं। अस्पतालों में इस दवा की आपूर्ति कम होने की शिकायतें मिल रही हैं। वहीं, केंद्र सरकार के स्‍वास्‍थ्‍य एवं परिवार कल्‍याण मंत्रालय का कहना है कि, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय औषध विभाग एवं विदेश मंत्रालय के साथ एम्फोटेरिसिन-बी दवा के घरेलू उत्पादन में बढ़ोतरी के लिए लगातार प्रयास कर रहा है। केंद्र सरकार का कहना है कि, इस दवा को वैश्विक उत्पादकों से आपूर्ति हासिल करके घरेलू उपलब्धता को पूरा करने के लिए प्रभावी प्रयास किए जा रहे हैं।
ब्लैक फंगस मरीजों के लिए कोरोना के मुकाबले ज्यादा पीड़ादायक है। और, हरियाणा की ही बात करें तो ब्लैक फंगस के मरीजों की संख्या 1000 पार होने में यहां सिर्फ 27 दिन लगे हैं। जबकि कोरोना के 1000 मरीज 66 दिन में मिले थे। ब्लैक फंगस के 60 मरीजों की जान सिर्फ 6 दिनों में चली गई। औसत हर दिन 10 मरीजों ने दम तोड़ा।

कोविड—19 ताजा समाचार देश