• Home
  • India
  • नवाज शरीफ 10 वर्ष की सजा सुनने के बाद बोले, मैं लौट रहा हूं पाकिस्‍तान…
India Latest News Top News World

नवाज शरीफ 10 वर्ष की सजा सुनने के बाद बोले, मैं लौट रहा हूं पाकिस्‍तान…

लंदन: बीते दिन पाकिस्‍तान में भ्रष्‍टाचार की वजह से 10 वर्ष की सजा पाए पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने कहा है कि वह कोई चोर नहीं है और जल्‍द ही पाकिस्‍तान वापस लौटेंगे। नवाज की मानें तो वह जेल से अपना संघर्ष जारी रखेंगे। नवाज और उनकी बेटी मरियम इस समय लंदन में हैं जहां पर नवाज की पत्‍नी कुलसुम नवाज का कैंसर का इलाज चल रहा है। बेटी मरियम को कोर्ट ने सात वर्ष की सजा सुनाई है। जिस समय नवाज यह बात कह रहे थे उनके बेटी मरियम उनके पास बैठी थीं। पाक की कोर्ट ने दोनों को भ्रष्‍टाचार के चार केसेज में से एक एवेनफील्ड भ्रष्‍टाचार केसमें सजा सुनाई है।

इस केस के तहत शरीफ परिवार पर लंदन के पॉश इलाके में चार फ्लैट्स होने के आरोप सिद्ध हुए हैं। नवाज ने कहा कि जेल से उनकी लड़ाई, उनके संघर्ष का ही हिस्‍सा है। नवाज को लंदन में महंगी प्रॉपर्टीज खरीदने का दोषी पाया गया और उन्‍हें सजा दी गई। उनके वकील मोहम्‍मद औरंगजेब ने यह जानकारी दी। अभियोजन पक्ष के वकील सरदार मुजफ्फर अब्‍बास ने कहा कि कोर्ट ने इन प्रॉपर्टीज की जांच करने को कहा है। पाकिस्‍तान में 25 जुलाई को चुनाव होने वाले हैं और इन चुनावों से तीन हफ्ते पहले कोर्ट ने यह अहम फैसला दिया है। नवाज की पत्‍नी कुलसुम गले के कैंसर की मरीज हैं

और पिछले वर्ष इलाज के लिए यूके गई थीं। तब से ही नवाज और मरियम दोनों ही कई बार लंदन का दौरा कर चुके हैं। नवाज चाहते थे कि कोर्ट को फैसला एक हफ्ते देरी से सुनाया जाए लेकिन कोर्ट ने इस अपील को खारिज कर दिया था। शरीफ ने कहा कि वह चाहते थे कि कोर्ट का फैसला वह उसी कोर्ट रूम में सुनें जहां अपनी बेटी के साथ वह 100 से ज्‍यादा बार सुनवाई में शामिल हो चुके हैं। कोर्ट ने दोनों को सजा देने के अलावा भारी जुर्माना भी लगाया है। नवाज को जुर्माने के तौर पर जहां 10 मिलियन डॉलर अदा करने होंगे तो वहीं बेटी मरियम को भी 2.6 मिलियन डॉलर देने होंगे। कोर्ट का फैसला 100  से भी ज्‍यादा पन्‍नों में सिमटा है।

Related posts

कर्नाटक चुनाव परिणाम 2018: सीएम सिद्धारमैया चामुंडेश्वरी सीट पर 12000 वोटों से पीछे…

Editor

अब अगर 10000 व्यू नहीं तो नहीं करेगा यू ट्यूब कोई पेमेन्ट

Editor

उपसभापति चुनाव: शिवसेना ने दिया एनडीए का साथ, हरिवंश की हुई जीत

Editor