• Home
  • India
  • औरतों का बाजारों में जाकर मेंहदी लगवाना नाजायज : दारुल उलूम
India Latest News Meerut-Saharanpur Saharanpur News Top News Uttar Pradesh

औरतों का बाजारों में जाकर मेंहदी लगवाना नाजायज : दारुल उलूम

darul uloom

सहारनपुर। विश्व प्रसिद्ध इस्लामिक शिक्षण संस्थान दारुल उलूम देवबंद ने महिलाओं के हाथों पर रचने वाली सुहाग की मेंहदी बाजारों में जाकर लगवाने को नाजायज करार दिया है। फतवे में मुफ्तियाने इकराम ने कहा है कि मेंहदी लगवाने के लिए गैर मर्दो के हाथों में अपना हाथ देना सख्त गुनाह और बेहाई की बात है, जिससे मुस्लिम महिलाओं को बचना चाहिए।

नगर के ही मोहल्ला बड़जियाउल हक निवासी मोहम्मद मोनिस ने दारुल उलूम से लिखित सवाल में पूछा था कि मुस्लिम औरतों का बाजार जाकर मेंहदी लगवाना कैसा है। बहोत सी औरतों मर्दों के हाथों से मेंहदी लगवाती हैं क्या इस्लाम में इसकी इजाजत है। दारुल उलूम के फतवा विभाग की खंडपीठ ने लिखित सवाल के जवाब में फतवा जारी करते हुए कहा है कि औरतों का बाजार जाकर मर्दों से मेंहदी लगवाना सख्त गुनाह और नाजायज है। फतवे में यह भी कहा गया है कि औरतों का बिना जरूरत बाजारों में जाना गुनाह और बेहयाई की बात है। इसलिए मुसलमान औरतों को इससे बचना चाहिए।

दारुल उलूम के फतवे को पूरी तरह सही ठहराते हुए मजलिस इत्तिहादे मिल्लत के प्रदेश अध्यक्ष मुफ्ती अहमद गोड ने कहा कि दारुल उलूम देवबंद मुसलमानों का रहनुमा है। कुरआन और हदीस की रोशनी में दिया गया फतवा बिल्कुल सही है। इस्लाम में पर्दे की खास महत्ता है इसलिए मुसलमान औरतों को चाहिए कि वह पर्दे का एहतेमाम जरूर करें।

Related posts

Good News: बिना टिकट ट्रेन में चढ़ गए तो आराम से करे यात्रा, जानें रेलवे की नई व्यवस्था

Editor

निधन पर खास : अटल की अटल रार पर विराम

Editor

देश की 65 प्रतिशत जनता चाहती है मायावती बने पीएम: कुशवाहा

Editor