Astrology-Religion Dharm-Darshan fast and festivals Gallery India Maha Shivratri Problems and Solutions Top News Uttar Pradesh

विभिन्न सामग्री से बने शिवलिंग का अलग महत्व

Maha shivratri 2018
madan gupta spatu
मदन गुप्ता सपाटू

सहारनपुर :  फूलों से बने शिवलिंग पूजन से भू- संपत्ति प्राप्त होती है। अनाज से निर्मित शिवलिंग स्वास्थ्य एवं संतान प्रदायक है। गुड़ व अन्न मिश्रित  शिवलिंग पूजन से कृशि संबंधित समस्याएं दूर रहती हैं। चांदी से निर्मित शिवलिंग धन- धान्य  बढ़ाता है। स्फटिक के वाले से अभीष्ट फल प्राप्ति होती है। पारद शिवलिंग अत्यंत महत्वपूर्ण है जो सर्व कामप्रद, मोक्षप्रद, शिवस्वरुप बनाने वाला, समसत पापों का नाश करने वाला माना गया है।

शिवरात्रि पर करें कालसर्प या राहू योग का निवारण

ज्योतिषाचार्य मदन गुप्ता सपाटू के अनुसार  चांदीे के नाग-नागिन का जोड़ा , हलवा,सरसों का तेल, काला सफेद कंबल शिवलिंग पर अर्पित करें । महामृत्युंज्य मंत्र की कम से कम ,एक माला -.108 मंत्र अवश्य पढ़ें।Maha shivratri 2018

मुख्य मंत्र

ओम् नमः शिवाय,  ओम् नमो वासुदेवाय नम: ,  ओम् राहुवे नमः , महामृत्युंज्य मंत्र- ओम् त्रयंम्बकं यजामहे सुगंधिं पुष्टिवर्धनं!

उर्वारुकमिव  बन्धनान् मृत्योर्मुक्षीय मामृतात्!!

Maha shivratri 2018

शिवरात्रि पर अन्य मंत्र आप विभिन्न समस्याओं के लिए कर सकते हैं

आय वृद्धि : शं हृीं शं !!

विवाहः ओम्  ऐं हृी शिव गौरी मव हृीं ऐं ओम् !

शत्रुः ओम्  मं शिव स्वरुपाय फट् !

रोगःओम् ह्ौं सदा शिवाय रोग मुक्ताय ह्ौं फट् !

साढ़े सातीः हृीं ओम् नमः शिवाय हृीं !

मुकदमाः ओम् क्रीं नमः  शिवाय क्रीं  !

परीक्षाः ओम् ऐं  गे ऐं ओम् !

बिगड़ी संतानः ओम् गं ऐं ओम् नमः शिवाय ओम् !

विदेश यात्राः ओम् अनंग वल्लभाये विदेश गमनाय कार्यसिद्धयर्थे नमः!

सुख सम्पदाः ओम् हृौं शिवाय शिवपराय फट्!

शत्रु विजयः ओम् जूं सः पालय पालय सः जूं ओम्!

रोजगार प्राप्ति: ओम् शं हृीं शं हृीं शं हृीं शं हृीं ओम्!

प्रेम प्राप्तिः ओम् हृीं ग्लौं अमुकं सम्मोहय सम्मोहय फट्!

Maha shivratri 2018

शिवरात्रि पर राशि अनुसार कौनकौन से उपाय किए जा सकते हैं

मेष शिवलिंग पर कच्चा दूध एवं दही अर्पित करें। साथ ही, धतूरा चढ़ाएं। कर्पूर जलाकर भगवान की आरती करें।

वृषभ- भगवान  शिव को गन्ने के रस से स्नान करवाएं। इसके बाद मोगरे का ईत्र शिवलिंग पर अर्पित करे अंत  में  भगवान  को  मिठाई  का  भोग लगाएं एवंआरती करें।

मिथुन स्फटिक के शिवलिंग की पूजा करें। यदि  स्फटिक  का  शिवलिंग  उपलब्ध  न  हो  तो  किसी  अन्य  शिवलिंग  का  पूजन  किया  जा सकता है। इस दिन लालगुलाल, कुमकुम, चंदन, ईत्र आदि से शिवलिंग का अभिषेक कर सकते हैं।

कर्क अष्टगंध एवं चंदन से शिवजी का अभिषेक करें। आटे से बनी रोटी का भोग लगाकर शिवलिंग का पूजन करें। बैर अर्पित करें।

सिंह –फलों के रस के साथ शिवलिंग का अभिषेक करना चाहिए। साथ  ही,  शिवलिंग  पर  आंकड़े  के  पुष्प  अर्पित  कर  मीठा  भोग  लगाना  चाहिए।

कन्या –बैर, धतूरा, भांग और आंकड़े के फूल अर्पित करें। इसके साथ बिल्व पत्र पर रखकर नैवेद्य अर्पित करें। कर्पूर  मिश्रित  जल  से  अभिषेक कराएं।

तुला जल में तरह तरह  फूल  डालकर, उस जल से शिवजी का अभिषेक करें। बिल्व  पत्र, मोगरा,  गुलाब,  चावल,  चंदन  आदि  भोलेनाथ  को अर्पित करें। अंत मेंआरती करें।

Maha shivratri 2018

वृश्चिक –शुद्ध जल से शिवलिंग का अभिषेक करना चाहिए। शहद,  घी  से  स्नान  कराने  के  पश्चात  पुन:  पवित्र  जल  से  स्नान  कराएं  एवं  पूजन कर आरती करें।

धनु –सूखे मेवे का भोग लगाएं। बिल्व पत्र, गुलाब आदि अर्पित करके आरती करें।

मकर –गेंहू से विधिवत पूजन करें। पूजन-आरती पूर्ण होने के बाद गेंहू का दान कर दें। इस  उपाय  से  आपकी  सभी  समस्याएं  समाप्त  हो  सकती हैं।

कुंभ – सफेद और काले तिल एक साथ मिलाकर किसी ऐसे शिवलिंग पर चढाएं। शिवलिंग पर काले तिल चढ़ाने से पहले जल अर्पित करें। इसके बाद काले-सफेद तिल अर्पित करें, पूजन के आद आरती करें।

 मीन – पीपल के नीचे बैठकर शिवलिंग का पूजन करें। ऊँ नम: शिवाय मंत्र का जप करते हुए बिल्व पत्र चढ़ाएं तथा आरती करें।

Related posts

मजदूरों को मस्जिद में खुदाई करते हुए मिला ‘खजाना’, ASI ने इलाके को घेरा

Atul kashyap

‘होम कमिंग सेरेमनी’ में उग्रवादियों ने किया आत्मसमर्पण : मणिपुर

Editor

खुद को कर्नाटक का सीएम बनाए जाने पर कुमारस्वामी ने किया बड़ा खुलासा…

Editor

Leave a Comment