Crime India Latest News Top News

यूपी पुलिस की इस करतूत के बारें में जानकर आप रह जायेंगे दंग

शाहजहांपुर : यूपी पुलिस अपने कारनामों के लिए अक्सर चर्चा में बनी रहती है। इस बार दो पुलिसकर्मियों ने ऐसी शर्मनाक हरकत को अंजाम दे दिया। जिसे सुनकर आप का भरोसा यूपी पुलिस से उठ जाएगा। यहां एक कंपनी के कर्मचारी 50 लाख रुपये कैश लेकर कंपनी जा रहे थे। तभी दो पुलिसकर्मियों को इसकी भनक लग गई और पुलिसकर्मियों ने नेशनल हाईवे पर चेकिंग की बात कहकर कार को रूकवा लिया और जबरन गाड़ी मे बैठ गए। एक पुलिसकर्मी बाईक से उस गाड़ी के पीछे पीछे चल दिया। गाड़ी मे बैठे पुलिसकर्मियों ने कार चालक ओर कंपनी के कर्मचारी को बंधक बनाकर मोटी रकम की मांग करने लगे। जिसके बाद कंपनी के मालिक ने इसकी सूचना आईजी को दी। आईजी के आदेश पर पुलिस ने कार को बरामद कर दो पुलिसकर्मियों को गिरफ्तार कर पूछताछ शुरू कर दी है। लूट करने के प्रयास के आरोप सही पाए गए।

जिसके बाद दोनों सिपाहियों के खिलाफ गंभीर धाराओं मे मुकदमा दर्ज कर उन्हें कोर्ट के सामने पेश करने की तैयारी शुरू कर दी गई। वहीं कार से बरामद पचास लाख रुपये आयकर विभाग के हवाले कर दिए है। घटना बीती रात जलालाबाद इलाके की है। उत्तराखंड के काशीपुर मे उमेश जिंदल की धागा बनाने की कंपनी है। कंपनी का कार चालक और कंपनी का एक कर्मचारी डस्टर कार से 50 लाख रुपये लेकर काशीपुर जा रहे हैं। कार जैसे ही कटरा थाना क्षेत्र नैशनल हाईवे पर लाल पंप के पास पहुंची तभी तिलहर थाने मे तैनात कांस्टेबल महेंद्र सिंह और पुलिस लाईन मे तैनात सत्यदेव ने चेकिंग करने के बहाने से गाङी को रूकवाया और कार रूकते ही दोनों सिपाही कार में बैठ गए। जानकारी के मुताबिक उसके बाद सिपाहियों ने कंपनी के कर्मचारी से पैसे के बारें में पूछा। पैसा गाड़ी में रखा था। जिसे देखकर सिपाहियों की नियत खराब हो गई।

उन्होंने मोटी रकम की मांग कर दी। कार हाईवे से जलालाबाद इलाके मे ले आए। सूत्रों की माने तो कंपनी के कर्मचारी ने सिपाहियों की फोन पर मालिक की बात कराई थी। कंपनी मालिक 50 लाख रूपये मे से 10 लाख रुपये देने को भी तैयार हो गया था। लेकिन सिपाहियों का कुछ ज्यादा ही मूंह खुल गया था। जिसके बाद कंपनी मालिक ने बरेली जोन के आई डीके ठाकुर को सूचना दी। सूचना मिलते ही डीके ठाकुर के आदेश पर पुलिस ने कार बरामद कर ली है। और कार में बैठे दोनों सिपाहियों को हिरासत मे लिया और कार चालक और कंपनी कर्मचारी से पूछताछ शुरू कर दी है। वहीं 50 लाख रुपये कहां से लाए गए थे इसकी जानकारी अभी नहीं हो पाई है। फिलहाल 50 लाख रुपये इनकम टैक्स डिपार्टमेंट के हवाले कर दिए गए है।

एसपी एस चिनप्पा ने बताया कि धागा कंपनी का पचास लाख रुपये कर्मचारी ले जा रहे थे। दो सिपाहियों ने कार को रोककर उसमे गलत नियत से सवार हो गए और लूट करने का प्रयास कर रहे थे। तभी सूचना के बाद पुलिस के अधिकारी कार को बरामद कर दोनों सिपाहियों को गिरफ्तार कर उनसे पूछताछ शुरू कर दी, जिसमे लूट करने के प्रयास के आरोप सही पाए गए। दोनो सिपाहियों के खिलाफ गंभीर धाराओं मे मुकदमा दर्ज कर दोनो आरोपी सिपाहियों को न्यायलय के सामने पेश किया जा रहा है। कार से बरामद पचास लाख रुपये आयकर विभाग के हवाले कर दिए है।

Related posts

सड़क हादसों में गई दो की जान

Editor

जाने कैसे मिली एससी एसटी-एक्ट में फंसे लोगों को राहत

Editor

दीपक मिश्रा होंगे नए चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया

Editor