India Top News uttarakhand

कई सवालों के जवाब नहीं है पुलिस पर उत्पीड़न का आरोप लगाने वाले फिरोज के पास

संदीप तोमर, रुड़की। क्रिकेट, कुश्ती, ताईक्वांडों, कबड्डी से लेकर जलीय खेलों में पूरे हरिद्वार जनपद, विशेष रुप से रुड़की क्षेत्र में अनेक मुस्लिम खिलाड़ी मौजूद हैं। इनमें कुश्ती को छोड़कर यूं भले ही कोई बड़ा नाम न हो, लेकिन यह खिलाड़ी जिले और शहर का नाम रोशन करते रहे हैं। फिर पता नहीं क्या हुआ? कि रुड़की कोतवाली के पूर्व एसएसआई हरपाल सिंह, पूर्व कोतवाल साधना त्यागी व दो अधिकारियों इन सभी को क्याकिंग व कैनोईंग से जुड़ा एक फिरोज खान नामक खिलाड़ी ही नजर आया कि पुलिस ने उसे सिर्फ मुसलमान होने के कारण उसका उत्पीड़न किया और उसे फर्जी मामले में जेल भेजा। जिससे इस खेल का यह उभरता सितारा आगे न बढ़ पाये। ऐसा अटपटा ब्यान आज खुद इस फिरोज खान ने दिया है। यहां तक ही हद नहीं हैं बल्कि फिरोज खान का कहना है कि पूरा पुलिस विभाग व शासन-प्रशासन उसके मामले की जांच सिर्फ इसलिए सही से नहीं कर रहा हैं क्योंकि वह मुसलमान है।
यूं फिरोज खान ने सम्बन्धित प्रकरण में लिखित शिकायतों में दोनों अधिकारियों का नाम नहीं लिया हैं लेकिन आज उसने रुड़की में प्रेस वार्ता करते हुए इन दोनों अधिकारियों का भी नाम लिया और कहा कि एक अधिकारी के सामने दूसरे अधिकारी, कोतवाल व एसएसआई ने उसकी पिटाई की। हालांकि उसके पास इस सवाल का कोई जवाब नहीं था कि उसने लिखित शिकायत में सिर्फ दो लोगों के नाम क्यों लिये? खैर पुरानी गंगनहर पर सिंचाई विभाग की जगह में बोट क्लब चलाने वाले मूलतः बागपत निवासी फिरोज खान नामक इस शख्स की पुलिस के खिलाफ ऐसी शिकायत जुलाई माह से चल रही हैं। उसका आरोप है कि उसके बगल में दूसरा बोट क्लब चलाने वाले व्यक्ति के यहां चूंकि धंधा कम चल रहा था तो उसने पुलिस से मिलीभगत कर उसका उत्पीड़न कराया।

सवाल यह है कि क्या उसका पड़ोसी यह व्यक्ति इतना बड़ा आदमी हो गया कि एसएसआई से लेकर कोतवाल और फिर जिले के पुलिस अधिकारी ही नहीं बल्कि प्रदेश के अधिकारियों तक के यहां फिरोज खान की सुनवाई नहीं हो रही हैं? या फिर यह कारोबार प्रतिमाह इतने करोड़ों रुपये का हैं कि पुलिस करोड़ों के इस खेल में फिरोज खान के खिलाफ शामिल हो गई? ऐसे ही कई सवाल आज फिरोज खान से किये गये, लेकिन उसके पास इनका कोई जवाब नहीं था? अलबत्ता उसे लेकर नगर में चर्चाएं व्याप्त हैं कि वह प्रकरण में किसी के हाथ का मोहरा जरूर बन रहा है। हालांकि उसने इस बात से इंकार किया। बहरहाल आज हुई प्रेसवार्ता में फिरोज खान ने स्वयं के साथ न्याय न होने की बात करते हुए कहा कि उसे न्याय न मिला तो पन्द्रह दिन बाद वह कोतवाली सिविल लाईन के सामने भूख हड़ताल शुरू कर देगा।

अब वह न्याय किस तरह चाहता हैं यह पता नहीं? जबकि कई लोगों द्वारा बकौल फिरोज खान कथित रुप ये यह भी सुनने को मिल चुका हैं कि कथित रुप से एसएसआई हरपाल सिंह, कोतवाल साधना त्यागी व फिर सीओ एसके सिंह का तबादला भी फिरोज खान ने ही कराया है।

Related posts

UP के इस गांव में नहीं थी लाइट, पावर हाउस में चल रही थी बियर पार्टी…

Ankit Sharma

गणेश चतुर्थी: गणपति बप्पा को पसंद है ये खास पकवान…

Editor

कोर्ट ने सुनाया 47 दिन बाद फैसला, 4 साल की बच्ची से रेप के आरोपी टीचर को फांसी की सजा

Editor