डिप्टी कलेक्टर अनुराधा अग्रवाल को भारी पड़ा ‘कौन बनेगा करोड़पति’ में हिस्सा लेना

नई दिल्ली : सोनी टीवी के शो कौन बनेगा करोड़पति में हिस्सा लेना छत्तीसगढ़  के मुंगेली जिले में तैनात ट्रेनी डिप्टी कलेक्टर अनुराधा अग्रवाल को उस समय भारी पड़ गया, जब उन्हें प्रशासन की ओर से शो में हिस्सा लेने की परमिशन नहीं दी गई। ट्रेनी डिप्टी कलेक्टर अनुराधा अग्रवाल दिव्यांग हैं। यह मामला तब सार्वजनिक हो गया कि जब उनके आवेदन पत्र सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। जिसके चलते प्रदेश सरकार की लोग अलोचना करने लगे। इसके बाद सीएम रमन सिंह को भी इस मामले में हस्तक्षेप करना पड़ा।

बता दें कि मुंगेली की डिप्टी कलेक्टर अनुराधा अग्रवाल ‘कौन बनेगा करोड़पति’ के लिए सलेक्ट हुईं थी। उन्होंने ‘कौन बनेगा करोड़पति’ के लिए सामान्य प्रशासन विभाग से अनुमति के लिए आवेदन दिया था। लेकिन प्रशासन की ओर से उन्हें कोई जबाव नहीं मिला। इस बीच अनुराधा अग्रवाल शो में हिस्सा लेने मुंबई चली गई और शो पर उन्होंने कुछ रकम भी जीत ली। अनुराधा के मुताबिक उन्होंने मुंगेली कलेक्टर और बिलासपुर संभागायुक्त के जरिए राज्य सरकार से अनुमति मांगी थीं, लेकिन सरकार से समय पर पत्र नहीं मिलने के कारण वे कलेक्टर से छुट्टी लेकर मुंबई चली गईं। इसी बीच अनुराधा की मां का देहांत हो गया। शासन से अनुमति मिलने की उम्मीद में अनुराधा अपनी मां का अंतिम संस्कार के तुरंत बाद मुंबई रवाना हो गईं। लेकिन अनुराधा अग्रवाल जब मुंबई से वापस लौटी तो पता चला कि प्रशासन की ओर से उन्हें शो में हिस्सा लेने के लिए छुट्टी नहीं दी गई थी।

सीएम रमन सिंह ने अफसरों को बुलाकर कहा कि यह विशेष मामला है। सीएम डॉ. सिंह ने बताया कि अनुराधा अपने भाई के किडनी ट्रांसप्लांट के लिए केबीसी शो में जाकर रकम जीतना चाहती थीं। इसलिए उन्हें विशेष अनुमति दे दी जाए।

loading...

Leave a Reply

*