Agra India Latest News Politics Top News Uttar Pradesh Zara Hatkey

Video : भाजपा की इस नेत्री ने ऐसे मनाई दीवाली, पटाखों की जगह जमकर चलाई गोली

rashmi sharma

मथुरा। सत्ता का नशा जब ​सिर चढ़ता है तो क्या पुरुष और क्या महिला। सभी पर यह नशा सिर चढ़कर बोलता है। आपने हर्ष फायरिंग के मामले में पुरुषों को फायरिंग करते तो कई बार देखा होगा और सुना होगा, लेकिन खुशी के मौके पर कोई महिला अगर फायरिंग करें तो उसे क्या समझा जाए।rashmi sharmaमामला मथुरा की वार्ड नंबर 50 की पार्षद का है, जहां से रश्मि शर्मा भाजपा की पार्षद है और उन्होंने दीपावली के मौके पर पिस्टल से एक नहीं बल्कि कई फायर किए। रश्मि शर्मा द्वारा हर्ष फायरिंग के फोटो व वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल कर दिए। तस्वीर साफ है किस तरह से भाजपा की पार्षद नियमों को ताक पर रखकर जहां दीपावली पर फुलझड़ियां और पटाखे चलाना चाहिए, वहां वह पिस्टल से फायर करती नजर आ रही है। BJP woman activist shot dead pocketsबताया जा रहा है कि इस पिस्टल का लाइसेंस इन के नाम पर नहीं है। उसके बावजूद यह पिस्टल से फायर कर रही हैं और कोर्ट के आदेशों को ठेंगा दिखाती नजर आ रही हैं। ऐसा हो भी क्यों ना क्योंकि यह एक सत्ताधारी पार्टी भाजपा की पार्षद हैं और शायद सत्ताधारी दल के लिए ना कोई नियम होता है और ना ही कानून का खौफ। rashmi sharmaअगर तस्वीरों पर गौर किया जाए तो देखने से लगता है इन्हें हथियारों से बेहद प्यार है। अलग अलग फोटो में अलग अलग हथियार इनके हाथ में देखे जा सकते हैं। rashmi sharmaजबकि इन के खुद के नाम से किसी भी हथियार का कोई लाइसेंस होने की अब तक जानकारी नहीं मिल पाई है। जब इस मामले में हमने रश्मि शर्मा से बात करने की कोशिश की इस मुद्दे पर उन्होंने कुछ भी बोलने से इंकार कर दिया। rashmi sharmaसोशल मीडिया पर वायरल हुई इन वीडियो और तस्वीरों के बाद मथुरा जिला प्रशासन क्या कार्यवाही करता है, यह तो वक्त ही बताएगा, लेकिन जिस तरह सत्ता का नशा पार्षद रश्मि शर्मा को चलाएं उससे साफ जाहिर है ना तो कोर्ट के आदेश का ही डर है और ना ही पुलिस का। जय हो योगी जी और आपकी और आपकी पार्टी भाजपा के कार्यकर्ताओं की।rashmi sharma

Related posts

उत्तराखंड : मानसून ले रहा है विदा,10 जिलों में जमकर बरसे बादल…

Editor

मानसून : फैशन को न करें नजरअंदाज, ये टिप्स अपनाकर करें सब को आकर्षित

Editor

भाजपा का यह विधायक सर पर ढो रहा फसलों का बोझ 

Editor